healthtipsinhindi

Health Tips in Hindi-

Pahla Sukh Nirogi Kaya: बनाए रखना है स्वास्थ्य तो भूलकर भी न करें ये गलतियां

Pahla Sukh Nirogi Kaya
Spread the love

कहा जाता है ‘पहला सुख निरोगी काया’ (Pahla Sukh Nirogi Kaya), और ये सिर्फ एक कहावत ही नहीं बल्कि स्वस्थ जीवन का सार है. स्वस्थ व्यक्ति ही देश और समाज का भला कर सकता है. एक सफल जीवन जीने के लिए जितना जरूरी धन होता है उससे कई गुना अधिक जरूरी है पूर्ण स्वास्थ्य. लंबे समय तक स्वास्थ्य को मेंटेन रखने के लिए बहुत जरूरी हो जाता है स्वास्थ्य संबंधी इन सावधानियों का पालन करना. अगर आप भी लंबे समय तक एकदम फिट और तंदरुस्त रहना चाहते हैं तो स्वास्थ्य से जुड़ी इन बातों को कभी भी नज़रअंदाज़ ना करें.

Pahla Sukh Nirogi Kaya

Pahla Sukh Nirogi Kaya वाली कहावत तभी चरितार्थ होगी जब हम अपने स्वास्थ्य के प्रति पूरी तरह सजग रहेंगे. हमारे शरीर को तंदरुस्त रखने के लिए जितना जरूरी योगा, खानपान और रहन सहन है उतना ही जरूरी है कि हमें खानपान का परहेज रखना. दो विरोधी तासीर कि चीजें खाने से हमारा स्वास्थ्य बिगड़ जाता है. आइये जानते हैं कि पूर्ण स्वास्थ्य के लिए कौन कौन सी सावधानियाँ रखनी आवश्यक है…

  1. हमें कभी भी चाय के साथ कोई नमकीन चीज नहीं खानी चाहिए.
  2. दूध और नमक का परस्पर मेल नहीं होता है, इंका संयोग सफ़ेद दाग या किसी भी स्किन डिज़ीज को जन्म दे सकता है. अत: इनके एक साथ प्रयोग से बचना चाहिए.
  3. दूध या दूध से बनी किसी भी चीज के साथ कभी भूलकर भी दही, इमली, खरबूजा, बेल, नारियल नहीं खाना चाहिए.
  4. दूध के साथ मूली, तोरई, तिल का तेल, सत्तू और खटाई भी नहीं खानी चाहिए.
  5. दूध के अलावा दही के साथ भी खरबूजा, पनीर, दूध और खीर नहीं खानी चाहिए. क्योंकि ये चीजें विरोधी तासीर कि होती है जो हमारे स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डालती है.
  6. शहद खाने के बाद कभी भी घी नहीं खाएं. क्योंकि ये हमारे शरीर के लिए जहर के समान होता है.
  7. इसी तरह गर्म जल के साथ भी शहद कभी नहीं लेना चाहिए.
  8. तरबूज के साथ कभी पुदीना या ठंडा पानी, कभी नहीं.
  9. चावल के साथ सिरका और चाय के साथ ककड़ी – खीरा भी कभी मत खाएं.
  10. खरबूजा के साथ दूध, दही, लहसून और मूली कभी ना खाएं.
  11. खीर के साथ सत्तू, शराब, खटाई, खिचड़ी और कटहल कभी नहीं खाना चाहिए.
  12. गरम जल की तरह ठंडे जल के साथ भी घी, तेल, खरबूज, अमरूद, ककड़ी, खीरा, जामुन और मूंगफली खाने से हमेशा बचना चाहिए.

पहला सुख निरोगी काया

स्वस्थ जीवन के लिए अगर आप इन नियमों का पालन करेंगे तो निसंदेह ही आप भी कह उठेंगे की- Pahla Sukh Nirogi Kaya ही होता है. क्योंकि एक स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क रहता है. और जब इंसान का मस्तिष्क और शरीर दोनों उसका साथ दे तो इंसान में वो ताकत है की वो असंभव को भी संभव कर दिखाता है.

Most Popular Post:

पेशाब में जलन, कारण, लक्षण और इसके घरेलू उपाय

Sehat Kaise Banaye: अच्छी सेहत बनानी है तो अभी बदल लें ये आदत, हमेशा रहोगे तंदरुस्त

Hanuman Chalisa की 6 रहस्यमयी चौपाइयां, हर दुख-परेशानी को कर देती है दूर