healthtipsinhindi

Health Tips in Hindi-

बेबी पाउडर में कैंसर तत्व होने के मामले में Johnson & Johnson को बड़ा झटका

Johnson & Johnson
Spread the love

विश्व प्रसिद्ध कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) को हाल ही में बड़ा झटका लगा है. कंपनी के बेबी पाउडर में कैंसर (Cancer) के तत्व पाये जाने के मामले में अब तक कंपनी के खिलाफ कई केस दर्ज हो चुके हैं. हाल ही में कंपनी ने इन केसों का निपटान करने के लिए ने बड़ी रकम अदा करने का फैसला लिया है.

जॉनसन एंड जॉनसन

करोड़ों रुपये का हर्जाना भरेगी कंपनी

जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर (Johnson & Johnson Baby Powder) में कैंसर के तत्व होने के मामले में कंपनी अपने उपर दर्ज 1000 केसों के निपटारे में करीब 10 करोड़ रुपए से अधिक हर्जाना भरेगी. कंपनी ने एक बयान में कहा है की हम कुछ मामलों का निपटारा करने के लिए तैयार हैं.

Johnson & Johnson पर दर्ज हो चुके हैं 19,000 से अधिक मुकदमे

Daily Mail में छपी एक खबर के मुताबिक बेबी पाउडर में कैंसर तत्व पाये जाने के मामले में कंपनी पर अब तक करीब 19,000 से अधिक मुकदमे दर्ज हो चुके हैं, इन मुकदमों में कंपनी पर आरोप लगाया गया है की जॉनसन एंड जॉनसन के टैल्क उत्पादों में उपलब्ध ‘एस्बेस्टस’ (Asbestos) के कारण कई लोगों को कैंसर होने के मामले सामने आए हैं. हालांकि कंपनी ने जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर में Asbestos होने के दावे को खारिज किया था.

Johnson & Johnson

खबर के अनुसार कंपनी कुछ मामलों में मुकदमों का निपटान करने को तैयार है. हालांकि, अब भी कंपनी अपने उत्पादों में सुरक्षा के लिए अपनाए जा रही उपायों में कोई बदलाव करने के मूड में नहीं है. इससे पहले मई में कंपनी ने कहा था की हम कनाडा और अमेरिका में अपने उत्पाद बेचना बंद कर देंगे. क्योंकि उनके उत्पाद के बारे में गलत सूचना फैलाई जा रही है जिससे उनके बाज़ार पर असर पड़ रहा है और मांग में कमी देखी जा रही है.

2018 में आया पहला मामला

Johnson and Johnson साल 2018 से एक जांच रिपोर्ट के बाद से जांच का सामना कर रही है. इस रिपोर्ट में यह पाया गया था की कंपनी दशकों से जानती थी की उसके बेबी पाउडर में एस्बेस्टस है. इसके लिए 1957-58 के दस्तावेजों का हवाला दिया गया. इस मामले में वादी पार्टी के प्रमुख लैनियर ने तर्क दिया था कि जॉनसन एंड जॉनसन के अधिकारियों को पता था कि आंतरिक परीक्षण में एस्बेस्टस पाया गया है, लेकिन कंपनी ने इसे 40 से अधिक वर्षों तक सार्वजनिक नहीं किया. इसके अलावा कंपनी ने सिमंस हैनली द्वारा किए गए 75 से अधिक केस भी निपटाए. सेंट लुइस, मिसौरी में एक तीसरे फैसले में 22 वादियों को कुल 4.69 बिलियन डॉलर का हर्जाना भी देना पड़ा.

Most Popular Post:

Tamarind Benefits in Hindi: इमली खाने के होते हैं कई गज़ब फायदे

Twin Town: भारत में है दुनिया का सबसे रहस्यमयी गांव, वैज्ञानिक भी है हैरान