गर्भावस्था के दौरान करने वाले योग

Yoga-during-pregnancy-in-hindi

गर्भावस्था का हर समय हर पल बहुत ही खास और कीमती होता है, एक महीना और उसके परिवार के लिए इस अवस्था के दौरान महिला और उसके शिशु का विशेष ध्यान रखा जाता है|

आने वाले शिशु के अच्छे स्वास्थ्य के लिए महिलाएं अपने खान-पान के ध्यान रखने के साथ-साथ अपने दिनचर्या का भी बहुत ध्यान रखती है इतना रखने के बावजूद भी एक तनाव का माहौल बना ही रहता है|

मन में हर पल डर रहता है कहीं कोई गलती ना हो जाए, कहीं किसी भी गलती की सजा उसके आने वाले शिशु को नाम इस अवस्था में मन की शांति अति आवश्यक है|

ऐसे में तन और मन दोनों का ही तालमेल जरूरी है यदि ऐसे में कुछ योगासन किया जाए तो इसका लाभ और दोनों को ही प्राप्त होगा आज हम आपको ऐसे ही कुछ बताने जा रहे हैं ऐसी अवस्था में चौथे से नोवे महीने तक करने चाहिए|

यस्तिका आसन : जमीन पर लेट जाएं और अपने दोनों पैरों को सीधा करके आराम से अपने दोनों हाथों को सीधा से पीछे तक ले जाएं और पूरे शरीर को हाथ और पैर की तरफ खींचते हुए सांस अंदर की और इस क्रिया को लगभग 10 मिनट तक पूरा होने के बाद धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आ जाए और अपने हाथ और पैर की ढीला छोड़ दी है|

स्वासन :  इस आसन को गर्भावस्था के दौरान करना बहुत ही लाभकारी है इस आसन को करने से तन, मन दोनों ही शांत होते हैं यह योग बहुत ही सरल है इस योग को करने के लिए किसी समतल स्थान पर लेट जाएं अपने हाथ और पैरों को फैला ले और अब धीरे से सांस अंदर ले और फिर धीरे से बाहर छोड़ें ध्यान रहे इस योग को करते समय आपकी आंखें बंद रहें,कुछ देर तक इस  योग को करने वालों आपका मन शांत हो जाएगा|

श्र्व्यास व्यायाम : गयह व्यायाम सांसो का व्यायाम है गर्भावस्था के दौरान श्र्व्यास व्यायाम करना अति लाभदायक है यह एक महत्वपूर्ण व्यायाम है|

ALSO READ:  योग के द्वारा सर्दी से छुटकारा

योग व्यायाम करने से गर्भावस्था में महिलाओं का रक्तचाप संतुलित रहता है चिंता, पाचन तंत्र ,तनाव की समस्या को समाप्त करने में योगासन लाभदायक है गर्भावस्था के दौरान कमर दर्द, चक्कर आना, जी मचलाना, उल्टी आना आदि साधारण लक्षण है पर योग के द्वारा इन सब से छुटकारा पाया जा सकता है हमने आज आपको गर्भावस्था में करने वाले योग बताए आप इन्हें जरूर अपनाएं|